Poetry By Mirza Ghalib

Ishq Se Tabiyat Ne Zeest Ka Mazaa Paya,
Dard Ki Dawa Payi Dard Be Dawa Paya.
इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया।
Aata Hai Daag-e-Hasrat-e-Dil Ka Shumaar Yaad,
Mujhse Mere Gunah Ka Hisaab Ai Khudaa Na Maang.
आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग।
Aaya Hai Be-Kasi-e-Ishq Pe Rona Ghalib,
Kiske Ghar Jayega Sailab-e-Bala Mere Baad.
आया है बे-कसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद।
Teri Wafaa Se Kya Ho Talafi Ki Dahar Mein,
Tere Siwa Bhi Hum Pe Bahut Se Sitam Hue.
तेरी वफ़ा से क्या हो तलाफी की दहर में,
तेरे सिवा भी हम पे बहुत से सितम हुए।
Ki Humse Wafaa To Gair Usko Jafa Kehte Hain,
Hoti Aayi Hai, Ki Achchhi Ko Buri Kehte Hain.
की हमसे वफ़ा तो गैर उसको जफा कहते हैं,
होती आई है की अच्छी को बुरी कहते हैं।
Jee Dhoondta Hai Phir Wahi Fursat Ke Raat Din,
Baithe Rahe Tasawwur-e-Janaan Kiye Huye.
जी ढूंढ़ता है फिर वही फुर्सत के रात दिन,
बैठे रहे तसव्वुर-ए-जहान किये हुए।
Kehte Toh Ho Yun Kehte, Yun Kehte Jo Yaar Aata,
Sab Kehne Ki Baat Hai, Kuch Bhi Nahi Kaha Jata.
कहते तो हो यूँ कहते, यूँ कहते जो यार आता,
सब कहने की बात है कुछ भी नहीं कहा जाता।
Chaandni Raat Ke Khamosh Sitaron Ki Qasam,
Dil Mein Ab Tere Siwa Koyi Bhi Aabad Nahi.
चांदनी रात के खामोश सितारों की क़सम,
दिल में अब तेरे सिवा कोई भी आबाद नहीं।
Aashiqi Sabr Talab Aur Tamanna Betab,
Dil Ka Kya Rang Karun Khoon-E-Jigar Hone Tak.
आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक।
Hain Aur Bhi Duniya Mein Sukhan-War Bahot Achhe,
Kehte Hain Ki Ghalib Ka Hai Andaaz-e-Bayan Aur.
हैं और भी दुनिया में सुखन-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयाँ और।
Unke Dekhe Se Jo Aa Jaati Hai Chehre Par Raunaq,
Woh Samajhte Hain Ke Beemaar Ka Haal Achcha Hai.
उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पर रौनक,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है।
Be-Khudi Be-Sabab Nahin Ghalib,
Kuchh Toh Hai Jis Ki Parda-Daari Hai.
बे-खुदी बे-सबब नहीं ग़ालिब,
कुछ तो है जिस की परदा-दारी है।
Yeh Na Thi Humari Kismat Ke Visaal-e-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rehte, Yehi Intezaar Hota.
ये न थी हमारी किस्मत के विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता।
Qaasid Ke Aate Aate Khat Ek Aur Likh Rakkhun,
Main Jaanta Hoon Jo Woh Likhenge Jawaab Mein.
कासिद के आते आते ख़त एक और लिख रखूँ,
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में।
Tum Na Aaoge Toh Marne Ki Hai Sau Tadbeerein,
Maut Kuchh Tum Toh Nahi Hai Ki Bula Bhi Na Saku.
तुम न आओगे तो मरने कि है सौ ताबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं है कि बुला भी न सकूं।
Rone Se Aur Ishq Mein Be-Baak Ho Gaye,
Dhoye Gaye Hum Itne Ke Bas Paak Ho Gaye.
रोने से और इश्क में बे-बाक हो गए,
धोये गए हम इतने कि बस पाक हो गए।
Imaan Mujhe Roke Hai Jo Khiche Hai Mujhe Kufr,
Kaaba Mere Peechhe Hai Kaaisa Mere Aage.
ईमान मुझे रोके है जो खीचे है मुझे कुफ्र,
काबा मेरे पीछे है कायसा मेरे आगे।
Bana Kar Faqeeron Ka Hum Bhes Ghalib,
Tamasha Ehl-e-Karam Dekhte Hain.
बना कर फकीरों का हम भेष ग़ालिब,
तमाशा एहल-ए-करम देखते हैं।
Aaina Dekh Apna Sa Munh Le Ke Reh Gaye,
Sahab Ko Dil Na Dene Pe Kitna Guroor Tha.
आईना देख के अपना सा मुँह लेके रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना गुरूर था।
Peene De Sharab Masjid Mein Baithkar,
Woh Jagah Bata Jahan Khuda Nahin.
पीने दे शराब मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता जहाँ ख़ुदा नहीं।
Bas Ki Dushwaar Hai Har Kaam Ka Assan Hona,
Aadmi Ko Bhi Mayassar Nahin Insaan Hona.
बस की दुश्वार है हर काम का आसान होना,
आदमी को भी मयस्सर नहीं इंसान होना।
Bazicha-e-Atfal Hai Duniya Mere Aage,
Hota Hai Shab-o-Roz Tamasha Mere Aage.
बाज़ीचा-ए-अत्फाल है दुनिया मेरे आगे,
होता है शब-ओ-रोज तमाशा मेरे आगे।
Wo aaye ghar me hamare KHUDA Ki Qudrat hai
Kabhi hum unko kabhi apne ghar ko dekhte hain
Tere Hussan ko Parday ki Zaroorat he kya ha Ghalib
Kon Hosh mein Rehta hai Tujhe Deikhnay k Baad
Mohabbat mein nahin hai farq jine aur marne ka,
Usi ko dekh kar jete hain jis kafir pe dum nikle
Un ke dekhe se jo aa jati hai muh par rounak,
Wo samjhte hain ki bimar ka haal achha hai
Main naadan tha jo wafa ko talash karta raha Ghalib,
Yeh na socha ki ek din apni saans bhi bewafa ho jayegi
Be-khudi Be-sabab nahi Ghalib,
Kuchh to hai jis ki parda-daari hai
Hum ne mohabbat ke nashe mein aakar usse khuda bana dala
Host tab aaya jab uss ne kaha ki khuda kisi ek ka nahin hota
uzar jayega ye dour bhi Ghalib zara itminan to rakh,
Jab khushi hi na thahri to gum ki kya aukat hai..!